Baat Nahi Karne ki Shayari | बात नहीं करने की शायरी | wo baat nahi karte shayari

Baat Nahi Karne ki Shayari | बात नहीं करने की शायरी | wo baat nahi karte shayari



Baat Nahi Karne ki Shayari  बात नहीं करने की शायरी  wo baat nahi karte shayari
Baat Nahi Karne ki Shayari | wo baat nahi karte shayari

बिन बात के ही रूठने की आदत है,
किसी अपने का साथ पाने की चाहत है,
आप खुश रहें, मेरा क्या है..
मैं तो आइना हूँ, मुझे तो टूटने की आदत है।


दिल में आप हो और कोई खास कैसे होगा;
यादों में आपके सिवा कोई पास कैसे होगा;
हिचकियॉं कहती हैं आप याद करते हो;
पर बोलोगे नहीं तो मुझे एहसास कैसे होगा।

Baat Nahi Karne ki Shayari

Baat Nahi Karne ki Shayari
Baat Nahi Karne ki Shayari | wo baat nahi karte shayari

एक आरज़ू सी दिल में अक्सर छुपाये फिरता हूँ,
प्यार करता हूँ तुझसे पर कहने से डरता हूँ,
कही नाराज़ न हो जाओ मेरी गुस्ताखी से तुम,
इसलिए खामोश रहके भी तेरी धडकनों को सुना करता हूँ …!


मेरे दिल की दुनिया पे तेरा ही राज था।
कभी तेरे सीर पर भी वफाओ का ताज था।
तूने मेरा दिल तोडा पर पता न चला तुझको।
क्योंकि टुटा दिल दीवाने का बे आवाज था।

Baat Na Karne ki Shayari

Baat Na Karne ki Shayari
Baat Nahi Karne ki Shayari | wo baat nahi karte shayari


जख्म बन जाने की आदत है उसकी,
रूला कर मुस्कुराने की आदत है उसकी,
मिलेगें कभी तो खूब रूलाएगें उसको,
सुना है रोते हुए लिपट जाने की आदत है उसकी..!!



उनसे मिलने को जो सोचों अब वो ज़माना नहीं,
घर भी कैसे जाऊं अब तो कोई बहाना नहीं,
मुझे याद रखना कहीं तुम भुला न देना,
माना के बरसों से तेरी गली में आना-जाना नहीं।

baat nahi karne ki shayari hindi

baat nahi karne ki shayari hindi
Baat Nahi Karne ki Shayari | wo baat nahi karte shayari

वो दिल क्या जो मिलने की दुआ न करे,
तुम्हें भुलकर जिऊ यह खुदा न करे,
रहे तेरी दोस्ती मेरी जिन्दगानी बनकर,
यह बात और है जिन्दगी वफा न करे|


मज़बूरी में जब कोई जुदा होता है,
ज़रूरी नहीं कि वो बेवफ़ा होता है,
देकर वो आपकी आँखों में आँसू,
अकेले में वो आपसे ज्यादा रोता है।

baat nahi karne ki shayari image

baat nahi karne ki shayari image
Baat Nahi Karne ki Shayari | wo baat nahi karte shayari

क्या अजीब सी ज़िद है..
हम दोनों की,
तेरी मर्ज़ी हमसे जुदा होने की..
और मेरी तेरे पीछे तबाह होने की..


call करू तो उठती नहीं
wait करू तो आते नहीं,
jokes बताये तो मुस्कुराते नहीं,
क्या इतनी नफरत है मुझसे।

Baat Nahi Hoti Shayari

Baat Nahi Hoti Shayari
Baat Nahi Karne ki Shayari | wo baat nahi karte shayari

कभी किसीसे बात करने की आदत मत डालना,
क्यों की अगर वो बात करना बंद कर दे तो,
दुबारा जीना मुश्किल हो जाता है यार।


दिल का हाल बताना नहीं आता,
किसी को ऐसे तड़पना नहीं आता,
सुनना चाहते है आपके आवाज़,
मगर बात करने का बहाना नहीं आता।

wo baat nahi karte shayari

wo baat nahi karte shayari
Baat Nahi Karne ki Shayari | wo baat nahi karte shayari

जब चाहे याद किआ जॉब चाहे भुला दिया,
बोहोत अच्छे से जानते है वो हमें बहलाने का तरीके,
जब चाहे हँसा दिया जब चाहे रुला दिया।


बहुत उदास है कोई शख्स तेरे जाने से
हो सके तो लौट के आजा किसी बहाने से
तू लाख खफा हो पर एक बार तो देख ले
कोई बिखर गया है तेरे रूठ जाने से|

baat nahi karne ki shayari

baat nahi karne ki shayari
Baat Nahi Karne ki Shayari | wo baat nahi karte shayari

हम रूठे भी तो किसके बहाने रूठे
कौन है जो आएगा हमें मनाने
हो सकता है तरस आ भी जाए आपको
पर दिल कहाँ से लाये आपसे रूठ जाने के लिए|


कब तक रह पाओगे आखिर यूँ दूर हमसे,
मिलना पड़ेगा कभी न कभी ज़रूर हमसे
नज़रे चुराने वाले ये बेरुखी है कैसी..
कह दो अगर हुआ है कोई कसूर हमसे|

baat na karne ki shayari

baat na karne ki shayari
Baat Nahi Karne ki Shayari | wo baat nahi karte shayari

तू क्यों दूर है इतना मुझसे, तुझे चाहता हूँ मैं
पूरे दिल से सुन ले मेरी आरज़ू
तू ही मेरी जान है, तू ही सारा जहाँ है|


बात करने का मजा तो
उन लोगों के साथ आता है,
जिनके साथ बोलने से पहले
कुछ सोचना न पड़ें!

baat nahi karte shayari

baat nahi karte shayari

हम दोनों ही डरते थे ,
एक दुसरे से बात करने से,
मैं, मोहब्बत हो गयी थी इसलिए ,
वो, मोहब्बत न हो जाये इसलिए।।


चुपके चुपके पहले वो ज़िन्दगी में आते हैं
मीठी मीठी बातों से दिल में उतर जाते है
बच के रहना इन हुसन वालों से यारो
इन की आग में कई आशिक जल जाते हैं|

baat na karne par shayari

baat na karne par shayari

ख़ामोशियों के सिलसिले बढ़ते गए;
कारवाँ चलता रहा हम भी चलते गए;
ना उनको ख़बर, ना हमें उनकी फिकर;
ज़िंदगी जिस राह ले चली हम भी चलते गए।


किस्मत ने जैसा चाहा वैसे ढल गए हम,
बहुत संभल के चले फिर भी फिसल गए हम,
किसी ने विश्वास तोडा तो किसी ने दिल,
और लोगों को लगा कि बदल गए हम|

wo baat nahi karte shayari

wo baat nahi karte shayari

इत्तेफ़ाक़ से ही सही मगर मुलाकात हो गयी;
ढूंढ रहे थे हम जिन्हें आखिर उन से बात हो गयी;
देखते ही उन को जाने कहाँ खो गए हम;
बस यूँ समझो दोस्तो वहीं से हमारे प्यार की शुरुआत हो गयी|


वो जो शोर मचाते हैं भीड़ में
भीड़ ही बनकर रह जाते हैं,
वही पाते हैं जिंदगी में कामयाबी
जो ख़ामोशी से अपना काम कर जाते हैं।


हो सकता है तरस आ भी जाये आपको,
पर दिल कहाँ से लायें,
आपसे रूठ जाने के लिये।

Baat Nahi Hoti Shayari

Baat Nahi Hoti Shayari

इजाजत हो तो लिफ़ाफ़े में रखकर,
कुछ वक़्त भेज दूँ ..
सुना है कुछ लोगो को फुर्सत नहीं, अपनों को
याद करने की ..!!


खुशबू की तरह आप के पास बिखर जायेंगे
सुकून बनकर दिल में उतर जायेंगे
बस आंखे बंद कर के महसूस कर लीजिये मुझे
दूर होकर भी आप के पास नजर आयेंगे|


इस कदर हम यार को मनाने निकले!
उसकी चाहत के हम दिवाने निकले!
जब भी उसे दिल का हाल बताना चाहा!
उसके होठों से वक़्त न होने के बहाने निकले!

baat nahi karne ki shayari hindi

baat nahi karne ki shayari hindi

हर नज़र को 1 निगाह का हक़ है,
हर नूर को 1 आह का हक़ है.
हम भी दिल लेकर आये है इस दुनिया में,
हमे भी तो 1 गुनाह करने का हक़ है|


उलझ के ऐसे मुहब्बत का फलसफा रह जाये,
ना कुछ भी ख्वावो हकीकत में फॉसला रह जाये
वहॉ से देखा है तुझको जहॉ से तू खुद भी
जो अपने आपको देखे तो देखता रह जाये।


बदलने को तो इन आंखों के मंजर कम नहीं बदले,
तुम्हारी याद के मौसम हमारे गम नहीं बदले
तुम अगले जन्म में हमसे मिलोगी तब तो मानोगी,
जमाने और सदी की इस बदल में हम नहीं बदले|

baat nahi karne ki shayari image

baat nahi karne ki shayari image

क़भी चुपके से मुस्कुरा कर देखना,
दिल पर लगे पहरे हटा कर देख़ना,
ये ज़िन्दग़ी तेरी खिलखिला उठेगी,
ख़ुद पर कुछ लम्हें लुटा कर देखना|


baat nahi karne ki shayari

Baat Nahi Karne ki Shayari

ना जाने कब तुम आ कर
हमारे दिल मे बसने लगे,
तुम पहले दोस्त थे,फिर प्यार,
फिर ना जाने कब ज़िंदगी बन गए|


आँखें भी पलकों से सवाल करती हैं,
हर वक़्त तुझे ही याद करती हैं,
जब तक ना कर लें दीदार तेरा ,
वो तेरा ही इंतज़ार करती हैं।

ignore shayari

आदतन तुमने किये है वादे,
आदतन हमने भी ऐतबार किया,
राहों में हर बार रुककर,
हमने तेरा ही इंतजार किया।

Post a Comment

0 Comments